बिकाऊ मीडिया -व हमारा भविष्य

: : : क्या आप मानते हैं कि अपराध का महिमामंडन करते अश्लील, नकारात्मक 40 पृष्ठ के रद्दी समाचार; जिन्हे शीर्षक देख रद्दी में डाला जाता है। हमारी सोच, पठनीयता, चरित्र, चिंतन सहित भविष्य को नकारात्मकता देते हैं। फिर उसे केवल इसलिए लिया जाये, कि 40 पृष्ठ की रद्दी से क्रय मूल्य निकल आयेगा ? कभी इसका विचार किया है कि यह सब इस देश या हमारा अपना भविष्य रद्दी करता है? इसका एक ही विकल्प -सार्थक, सटीक, सुघड़, सुस्पष्ट व सकारात्मक राष्ट्रवादी मीडिया, YDMS, आइयें, इस के लिये संकल्प लें: शर्मनिरपेक्ष मैकालेवादी बिकाऊ मीडिया द्वारा समाज को भटकने से रोकें; जागते रहो, जगाते रहो।।: : नकारात्मक मीडिया के सकारात्मक विकल्प का सार्थक संकल्प - (विविध विषयों के 28 ब्लाग, 5 चेनल व अन्य सूत्र) की एक वैश्विक पहचान है। आप चाहें तो आप भी बन सकते हैं, इसके समर्थक, योगदानकर्ता, प्रचारक,Be a member -Supporter, contributor, promotional Team, युगदर्पण मीडिया समूह संपादक - तिलक.धन्यवाद YDMS. 9911111611: :

Thursday, September 25, 2014

मंगल परिक्रमा मिशन: ग्रह के प्रथम चित्र

मंगल परिक्रमा मिशन: ग्रह के प्रथम चित्र
मंगल से मंगलयान ने भेजी भारत के लिए पहली तस्‍वीर भारत के मंगल परिक्रमा मिशन (मंपमि/एमओएम) ने पहले ही प्रयास में लाल ग्रह की कक्षा में स्थापित होने का नया इतिहास रचने के दूसरे दिन आज मंगल ग्रह के प्रथम चित्र भेजे हैं। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने लाल ग्रह के चित्रों के साथ ट्विट किया, ''मंगल के प्रथम चित्र, 7300 किलोमीटर की ऊंचाई से ...वहां का दृश्य सुंदर है।’’ अंतरिक्ष यान ‘‘मंगलयान’’ इस समय कक्षा में मंगल ग्रह का चक्कर लगा रहा है और मंगल ग्रह से इसकी न्यूनतम दूरी 421.7 किलोमीटर है तथा अधिकतम दूरी 76,993.6 किलोमीटर है। इसरो ने यह जानकारी दी।
भारत के मार्स ओर्बिटर मिशन ने लाल ग्रह मंगल की पहली तस्वीरें भेजींकक्षा का झुकाव मंगल ग्रह की भूमध्यवर्ती क्षेत्र में 150 डिग्री के वांछित स्तर पर है। इस कक्षा में मंगलयान को मंगल ग्रह का एक चक्कर लगाने में 72 घंटे, 51 मिनट और 51 सेकेंड का समय लगता है। इसरो की विज्ञप्ति के अनुसार आने वाले सप्ताहों में मंगलयान के पांच वैज्ञानिक उपकरणों का उपयोग करते हुए अंतरिक्ष यान का मंगल ग्रह की कक्षा में पूरा परीक्षण किया जाएगा। इसे भी देखें -

भारत का मंगलकार्य सफल

भारत का मंगलकार्य सफल 
युदस: विश्व गुरु सार्थक हुआ, भारत के वैज्ञानिकों ने इतिहास रचा, युग दर्पण ने चोपाई की नई व्याख्या: मंगल भुवन अमंगल हारी अर्थात जो मंगल करता है वे मंगल की कृपा पाने में प्रथम बार में सफल हुए, जो अमंगल करता थे, वो हारते रहे।
अंतरिक्ष यात्रा 10 माह विडिओ में दर्शाया गया :-
https://www.youtube.com/watch?v=lMmyEJiOB-8&index=17&list=PLD8A212A480412E57
9 माह 23 दिवस की अंतरिक्ष यात्रा, का मार्ग। .... 
मंपमि .... प्रक्षेपित किया गया था। यह एक दिसंबर को पृथ्वी के गुरूत्वाकर्षण क्षेत्र को पार कर गया था।
Antariksha Darpan. the most fascinating blog. About planet, sattelite & cosmology.
सबसे आकर्षक ब्लॉग. ग्रह, उपग्रह, और ब्रह्माण्ड विज्ञान के बारे में.

Tuesday, September 23, 2014

भारत का मंगलकार्य सफल

भारत का मंगलकार्य सफल 
युदस: विश्व गुरु सार्थक हुआ, भारत के वैज्ञानिकों ने इतिहास रचा, युग दर्पण ने चोपाई की नई व्याख्या: मंगल भुवन अमंगल हारी अर्थात जो मंगल करता है वे मंगल की कृपा पाने में प्रथम बार में सफल हुए, जो अमंगल करता थे, वो हारते रहे।
अंतरिक्ष यात्रा 10 माह विडिओ में दर्शाया गया :-
https://www.youtube.com/watch?v=lMmyEJiOB-8&index=17&list=PLD8A212A480412E57
9 माह 23 दिवस की अंतरिक्ष यात्रा, का मार्ग। 
ट्रांस मंगल ग्रह इंजेक्शन (टीएमआई), 1 दिसंबर, 2013 को 0:49 बजे (आईएसटी) पर आरम्भ होकर, अंतरिक्ष यान बाहर मंगल ग्रह स्थानांतरण प्रक्षेपवक्र (MTT) में ले जाया गया। टीएमआई के साथ अंतरिक्ष यान के पृथ्वी की परिक्रमा का चरण समाप्त हो गया है और अंतरिक्ष यान सूर्य के चारों ओर लगभग 9 माह 23 दिवस की अंतरिक्ष यात्रा के पश्चात् मंगल ग्रह की परिधि में अब सतह पर है 
Trans Mars Injection (TMI), carried out on Dec 01, 2013 at 00:49 hrs (IST) has moved the spacecraft in the Mars Transfer Trajectory (MTT).With TMI the Earth orbiting phase of the spacecraft ended and the spacecraft is now on a course to encounter Mars after a journey of about 10 months around the Sun 
समस्त विवरण भारत ने आज अपना अंतरिक्षयान मंगल की कक्षा में सफलतापूर्वक स्थापित कर इतिहास रच दिया। यह उपलब्धि अर्जित करने के बाद भारत विश्व में प्रथम ऐसा देश बन गया, जिसने अपने प्रथम प्रयास में ही ऐसे अंतरग्रही अभियान में सफलता प्राप्त की है। प्रात: 7 बज कर 17 मिनट पर 440 न्यूटन लिक्विड एपोजी मोटर (एलएएम), यान को मंगल की कक्षा में प्रविष्ट कराने वाले उत्प्रेरक के साथ तेजी से सक्रिय हुयी, जिससे मंगल परिक्रमा (ऑर्बिटर) मिशन (एमओएम) यान की गति इतनी धीमी हो जाए, कि लाल ग्रह उसे खींच ले। मिशन की सफलता की घोषणा करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा ‘‘एमओएम का मंगल से मिलन।’’
विश्व गुरु सार्थक हुआएक ओर मंगल मिशन इतिहास के पृष्ठों में स्वयं को स्वर्ण अक्षरों में अंकित करा रहा था, वहीं दूसरी ओर यहां स्थित भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के नियंत्रण केंद्र में अंतिम पल अति व्याकुलता भरे थे। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों के साथ मंगल मिशन की सफलता के साक्षी बने, मोदी ने कहा ‘‘विषमताएं हमारे साथ रहीं और मंगल के 51 मिशनों में से 21 मिशन ही सफल हुए हैं,’’ किन्तु ‘‘हम सफल रहे।’’ प्रसन्नता से फूले नहीं समा रहे प्रधानमंत्री ने, इसरो के अध्यक्ष के राधाकृष्णन की पीठ थपथपाई और अंतरिक्ष की यह महती उपलब्धि अर्जित कर इतिहास रचने के लिए, भारतीय अंतरिक्ष वैज्ञानिकों को बधाई दी। ‘‘मंगलयान’’ की सफलता के साथ ही भारत प्रथम प्रयास में मंगल पर जाने वाला 'विश्व का प्रथम देश' बन गया है। यूरोपीय, अमेरिकी और रूसी यान लाल ग्रह की कक्षा में या तल पर पहुंचे हैं किन्तु कई प्रयासों के बाद।
मंगल यान को लाल ग्रह की कक्षा खींच सके, इसके लिए यान की गति 22.1 किमी प्रति सेकंड से घटा कर 4.4 किमी प्रति सेकंड की गई और फिर यान में डाले गए निर्देश (कमांड) द्वारा मंगल परिक्रमा प्रवेश ‘‘मार्स ऑर्बिटर इन्सर्शन’’ (एमओई) की प्रक्रिया संपन्न हुई। यह यान सोमवार को मंगल के अतिनिकट पहुंच गया था। जिस समय एमओएम कक्षा में प्रविष्ट हुआ, पृथ्वी तक इसके संकेतों को पहुंचने में प्राय: 12 मिनट 28 सेकंड का समय लगा। ये संकेत नासा के कैनबरा और गोल्डस्टोन स्थित गहन अंतरिक्ष संजाल (डीप स्पेस नेटवर्क) स्टेशनों ने ग्रहण किये और आंकड़े वास्तविक समय (रीयल टाइम) पर यहां इसरो स्टेशन भेजे गए। अंतिम पलों में सफलता का प्रथम संकेत तब मिला, जब इसरो ने घोषणा की कि भारतीय मंगल परिक्रमा (ऑर्बिटर) के इंजनों के प्रज्ज्वलन की पुष्टि हो गई है। इतिहास रचे जाने का संकेत देते हुए इसरो ने कहा ‘‘मंगल ऑर्बिटर के सभी इंजन शक्तिशाली हो रहे हैं। प्रज्ज्वलन की पुष्टि हो गई है।’’ मुख्य इंजन का प्रज्ज्वलित होना महत्वपूर्ण था, क्योंकि यह प्राय: 300 दिन से निष्क्रिय था और सोमवार को मात्र 4 सेकेंड के लिए सक्रिय हुआ था।
यह स्थिति पूर्णतया ‘‘इस पार या उस पार’’ वाली थी, क्योंकि समस्त कौशल के बाद भी एक तुच्छ सी भूल ऑर्बिटर को अंतरिक्ष की गहराइयों में धकेल सकती थी। यान की पूर्ण कौशल युक्त प्रक्रिया, मंगल के पीछे हुई; जैसा कि पृथ्वी से देखा गया। इसका अर्थ यह था कि मंगल परिक्रमा प्रवेश प्रज्ज्वलन में लगे, 4 मिनट के समय से लेकर प्रक्रिया के निर्धारित समय पर समापन के तीन मिनट बाद तक, पृथ्वी पर उपस्थित वैज्ञानिक दल यान की प्रगति नहीं देख पाए। ऑर्बिटर अपने उपकरणों के साथ कम से कम 6 माह तक दीर्घ वृत्ताकार पथ पर घूमता रहेगा और उपकरण एकत्र आंकड़े पृथ्वी पर भेजते रहेंगे। मंगल की कक्षा में यान को सफलतापूर्वक पहुंचाने के बाद भारत लाल ग्रह की कक्षा या सतह पर यान भेजने वाला चौथा देश बन गया है। अब तक यह उपलब्धि अमेरिका, यूरोप और रूस को मिली थी। कुल 450 करोड़़ रुपये की लागत वाले मंगल यान का उद्देश्य लाल ग्रह की सतह तथा उसके खनिज अवयवों का अध्ययन करना तथा उसके वातावरण में मीथेन गैस की खोज करना है। पृथ्वी पर जीवन के लिए मीथेन एक महत्वपूर्ण रसायन है। इस अंतरिक्ष यान का प्रक्षेपण 5 नवंबर 2013 को आंध्रप्रदेश के श्रीहरिकोटा से स्वदेश निर्मित पीएसएलवी रॉकेट से किया गया था। यह 1 दिसंबर 2013 को पृथ्वी के गुरूत्वाकर्षण से बाहर निकल गया था।
https://www.youtube.com/watch?v=jwHBMR8C6B0&index=87&list=PLDB2CD0863341092A
भारत का एमओएम न्यूनतम लागत वाला अंतरग्रही मिशन है। नासा का मंगल यान मावेन 22 सितंबर को मंगल की कक्षा में प्रविष्ट हुआ था। भारत के एमओएम की कुल लागत मावेन की लागत का मात्र दसवां अंश है। कुल 1,350 किग्रा भार वाले अंतरिक्ष यान में पांच उपकरण लगे हैं। इन उपकरणों में एक संवेदक (सेंसर), एक रंगीन कैमरा और एक 'ताप छायांकन वर्ण-पट यंत्र' थर्मल इमैजिंग स्पेक्ट्रोमीटर शामिल है। संवेदक लाल ग्रह पर जीवन के संभावित संकेत मीथेन अर्थात मार्श गैस का पता लगाएगा। रंगीन कैमरा और 'ताप छायांकन वर्ण-पट यंत्र' लाल ग्रह की सतह का तथा उसमें उपलब्ध खनिज संपदा का अध्ययन कर आंकड़े जुटाएंगे। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ने बताया कि अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा और मावेन की टीम ने भारतीय यान के मंगल की कक्षा में सफलतापूर्वक पहुंचने के लिए इसरो को बधाई दी है।
मंपमि 450 करोड़ रूपये की लागत वाला सबसे अल्प व्ययी अंतर ग्रहीय मिशन था और भारत इसके साथ ही विश्व में पहले ही प्रयास में मंगल की कक्षा में अंतरिक्ष यान स्थापित करने वाला एकमात्र राष्ट्र बन गया है। जबकि यूरोपीय संघ, अमेरिकी और रूसी यान को इसके लिए कई बार प्रयास करने पड़े। मंगलयान कम से कम आगामी छह माह तक दीर्घवर्त्ताकार रूप में मंगल के चक्कर लगाएगा और अपने उपकरणों का उपयोग करते हुए पृथ्वी पर चित्र भेजेगा। मंगलयान को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा में गत वर्ष पांच नवंबर को पीएसएलवी राकेट के माध्यम प्रक्षेपित किया गया था। तथा यह एक दिसंबर को पृथ्वी के गुरूत्वाकर्षण क्षेत्र को पार कर गया था।
Antariksha Darpan. the most fascinating blog. About planet, sattelite & cosmology.
सबसे आकर्षक ब्लॉग. ग्रह, उपग्रह, और ब्रह्माण्ड विज्ञान के बारे में.